8 + Motivational Short Stories in Hindi Wikipedia /  हिंदी प्रेरक कहानियां

8 + Motivational Short Stories in Hindi Wikipedia / हिंदी प्रेरक कहानियां

मित्रों इस पोस्ट में Motivational Short Stories in Hindi  की ८ कहानियां दी गयी हैं।  आज इसे जरूर पढ़ें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

आम का बगीचा Motivational Short Stories in Hindi 

 

 

 

 

 

 

 

1- मित्रों जब आप किसी कार्य को करने के लिए मन से ठान लेते हैं और अपनी पूरी ताकत से उसने पूरा करने के लिए जुट जाते हैं तो Success जरूर मिलती है, लेकिन आपका इरादा मजबूत होना चाहिए और High thinking होनी चाहिए, आपको निश्चित तौर पर Success मिलेगी।

 

 

 

 

मनोज को आम बहुत ही पसंद था। रास्ते में उसे आम का बगीचा दिखाई दिया। उसने सोचा अगर यह आम का बगीचा मेरा होता तो कितना अच्छा होता।

 

 

 

 

उसने प्रयास करना शुरू कर दिया। उसने कुछ पैसे जुटाए और थोड़ा – थोड़ा आम लेकर बेचने लगा। उसने बहुत Hard Work किया, जिससे उसका व्यापार बढ़ता गया। वह अपने सपने को भुला नहीं था।  उसने और भी मेहनत करना जारी रखा, क्योंकि वह अपना Dream पूरा करना चाहता था।

 

 

 

 

उसका Hard Work सफल रहा। अब उसके पास बगीचा खरीदने के लिए पैसा इकट्ठा हो गया था। उसने निश्चय किया कि अब ऐसे लोगों की Help करेगा, जो अपना Dream पूरा करना चाहते हैं।

 

 

 

 

Moral Of This Story  – सपने जरूर देखो।  सपने देखोगे तभी तो पुरे होंगे। 

 

 

 

 

 

प्रयास हिंदी प्रेरक कहानी 

 

 

 Motivational Short Stories in Hindi

 

 

 

2 – मित्रों आपने Startup का नाम तो सुना ही होगा, लेकिन क्या आपने इसे कभी शुरू करने का सोचा है ? Startup किसी भी अच्छे Topic पर शुरू किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए Planing और सही जानकारी की आवश्यकता होती है।  आज तो कई Startup पर खुद Indian Coverment सहायता कर रही है।  आज की कहानी इसी पर आधारित है।

 

 

 

 

किशन अपने गांव में फैली गन्दगी को देखकर बिचलित हो जाता था। उसने स्वयं ही पहल करने की सोची और उसने अपने घर के कचरे को इकट्ठा करना शुरू कर दिया।

 

 

 

 

हालांकि उसके लिए यह आसान नहीं था।  घर से लेकर बाहर तक उसका ना सिर्फ विरोध हुआ बल्कि उसका मजाक भी बनाया गया। 

 

 

 

 

इसे भी पढ़ें Top 10 Motivational Stories in Hindi / शिक्षाप्रद हिंदी कहानियां जरूर पढ़ें

 

 

 

 

उसे Mad तक कहा गया, लेकिन कहा गया है आगे वही बढ़ता है जो society की ऐसी दकियानूसी बातो को नजरअंदाज करता है। समाज चमत्कार को नमस्कार करता है।

 

 

 

 

किशन ने उन कचरों की छटाई करके उससे जैविक खाद बनाने की शुरूआत की और वह इस कार्य में Success हो गया। उसके सफल होते ही अब समाज के लोग उसकी तारीफ़ करने लगे।

 

 

 

 

यह वही लोग थे जो कल तक उसे पागल कहते थे। उसके बाद किशन अपने पड़ोसियों के घर से कचरा मांगना शुरू किया। जैविक खाद बनाकर उसे बाजार में बेचने लगा। किशन की बनाई खाद की गुणवत्ता High Quality की थी।

 

 

 

 

 

जिस कारण एक दिन उसे बहुत बड़ा Order मिला। जिससे उसे बहुत पैसा मिला। अब उसने जैविक खाद बनाने की Factory और उससे High Quality की जैविक खाद बनाने लगा।

 

 

 

 

 

सस्ती और अच्छी खाद के कारण मांग और बढ़ने लगी। अब उसके गाँव के लोग उसी Factory में काम करने लगे। इस तरह से किशन ने अपने गांव से गंदगी दूर कर दी और Employment का अवसर भी दिया।

 

 

 

 

 

Moral Of This Story – हर आदमी प्रयास करे तो देश की तस्वीर बदलने में देर नहीं लगेगी और रोजगार के साधन भी उपलब्ध होंगे।

 

 

 

 Motivational Short Stories in Hindi

 

 

 

 

 

नीव की ईंट Motivational Short Stories in Hindi 

 

 

 

 

3- मित्रों जीवन में आप कितना भी आगे क्यों न बढ़ जाओ, चाहे जितने भी Rich बन जाओ, लेकिन अपनी नीव को कभी भी मत भूलो।  अगर आप अपनी नींव को भूल जाओगो तो बहुत पछताओगे।  नींव के बदौलत ही आप इस जीवन की लड़ाई में टिके हुए हो। 

 

 

 

 

एक कमरे की दीवार आपस में बातें कर रही थी। हम लोगों के प्रयास से ही इतनी बड़ी इमारत खड़ी हो सकती है। अगर हम लोग नहीं होते तब इन  Buildings का वजूद ही नहीं रहता।

 

 

 

 

 

इसी प्रकार रेत और रसिया गिट्टी सभी अपनी – अपनी बड़ाई कर रहे थे। सहसा खिड़की का शीशा बोल उठा, “क्या तुम लोगों को अंदाजा है कि तुम लोगों की जो बुनियाद है वह किसके कंधों पर है?”

 

 

 

 

 

जरा उन भाइयों को देखो जो खुद की नीव में दफन होकर तुम्हे इतना बड़ा सम्मान और गौरव प्रदान किया है। शीशे के इन बातों को सुनकर सभी चुप हो गए।

 

 

 

 

 

Moral Of This Story – जो अपना वजूद खोकर दूसरों को आगे बढ़ाता है वह महान होता है। 

 

 

 

 

रिस्क हिंदी प्रेरणादायक कहानी 

 

 

 

 

 

4- अंतरिक्ष के एक ग्रह सुडुशा में अजीब तरह के प्राणी रहते थे। वे 70 वर्षों तक जीवित रहते थे और उन्हें भोजन की भी आवश्यकता नहीं पड़ती थी।

 

 

 

 

एक बार सुडुशा ग्रह के एक प्राणवायु में विनाशिका नामक देश के कुछ लोग व्यापर करने आये। वे लोग विनाशिका के राजघराने के वफादार थे।

 

 

 

 

 

धीरे – धीरे वे प्राणवायु देश में अपना व्यापार बढ़ाने लगे। शुरू के समय में प्राणवायु के लोगों को रोजगार मिलने और प्राणवायु राजघराने को पैसा मिलने से वहां के राजा बड़े ही खुश थे, लेकिन कुछ ही सालों के बाद उनकी ख़ुशी मातम में बदल गई।

 

 

 

 

 

क्योंकि विनाशिका के व्यापारी विनाशिका के राजा से बता चुके थे कि प्राणवायु देश के लोग लड़ाई से डरते है। क्योंकि वहां की चिकित्सा व्यवस्था बहुत ही कमजोर है और उचित समय पर ईलाज नहीं मिल पाता है। चूकि उनकी मृत्यु 70वर्ष के पूर्व नहीं हो सकती है। इसलिए महीनों – महीनों तक उन्हें घायलावस्था मे रहना पड़ता है

 

 

 

 

 

 

विनाशिका के राजा को जब इस बात की जानकारी हुई तो उसने प्राणवायु देश पर धावा बोल दिया और जल्द ही पुरे देश पर कब्ज़ा जमा लिया।

 

 

 

 

 

उसने एक रणनीति अपनायी। वह प्राणवायु की आम जनता पर कोई अत्याचार नहीं करता बल्कि वहां के खनिज पदार्थ और सम्पदा को अपने देश ले जाता। कम पगार पर काम करवाता और यही कई वर्षों तक चलता रहा।

 

 

 

 

 

कहा जाता है कि जब किसी चीज की अति हो जाती है तो उसका अंत सुनिश्चित हो जाता है। ऐसे ही प्राणवायु के एक गांव में एक बच्चे का जन्म हुआ जिसका नाम था शिमिश।

 

 

 

 

 

जब वह समझने लायक हो गया, तभी से वह विनाशिका की नीति को अच्छे से समझने लगा था। वह अक्सर अपने घर में इस बारे में बात करता, लेकिन उसके घर के लोग उसे चुप करा देते।

 

 

 

 

 

थोड़ा बड़ा होने पर उसने फिर से प्रयास किया परन्तु Failed रहा और इस कारण से उसे जेल भी जाना पड़ा। किसी तरह से उसके घर के लोग उसे जेल से छुड़ाकर लाए, लेकिन उसका प्रयास जारी रहा।

 

 

 

 

 

उसने प्रणवायु के लोगों के ऊपर Research किया तो पाया, ” वहां के युवा और बच्चे ही विनाशिका के लोगों से डरते थे, जबकि 50 वर्ष की अधिक उम्र के लोग कम डरते और 60 वर्ष की उम्र के लोग तो और भी कम डरते थे।

 

 

 

 

 

 

इसका कारण यह था कि कुछ वर्षों के बाद उनकी मृत्यु होनी थी सो उन्हें डर नहीं लगता था और दूसरा कारण चिकित्सा की कमी।

 

 

 

 

 

शिमिश ने धीरे- धीरे उम्रदराज लोगों की एक अच्छी खासी टीम इकट्ठा की और एक खास क्षेत्र में विनाशिका के लोगों पर आक्रमण करके वहां की चिकित्सा प्रणाली को कब्जे में लेने का प्लान बनाया।

 

 

 

 

 

शिमिश की योजना सफल हो गयी और उसके एक खास डोज पर प्राणवायु के लोगों का कब्ज़ा हो गया। घात लगाकर किए गए हमले के कारण प्राणवायु का कोई भी नागरिक घायल नहीं हुआ।

 

 

 

 

 

उस चिकित्सा प्रणाली पर कब्जे के बाद शिमिश ने अधिकतर लोगों का First aid की जानकारी लेने को कहा,और साथ ही हमेशा चौकन्ना रहने को कहा।

 

 

 

 

 

एक जीत तथा  First aid की जानकारी के बाद प्राणवायु के लोगों के हौशले बुलंद होने लगे और धीरे – धीरे पूरे के पूरे प्राणवायु में विनाशिका के लोगों पर हमले होने लगे और अंत में विनाशिका के लोगों को प्राणवायु क्षेत्र छोड़कर जाना पड़ा और प्राणवायु के लोग ख़ुशी से रहने लगे।

 

 

 

 

 

 

Moral Of This Story जीवन में Risk उठाना ही पड़ता है। अगर आप डरकर बैठे रहोगे तो, दूसरे इसका फायदा जरूर उठाएगे। लेकिन कोई भी कदम उठाने के पहले उसके बारे में Research जरूर करनी चाहिए और अपनी कमियों को पूरा करना चाहिए।

 

 

 

इसे भी पढ़ें Inspirational Stories in Hindi For Students / सबसे कीमती चीज हिंदी कहानी

 

 

 

 

 

चतुर और मुर्ख Motivational Story 

 

 

 

 

 Motivational Short Stories in Hindi
Motivational Short Stories in Hindi

 

 

 

5- मित्रों कहीं – कहीं पर ना बोलना ही श्रेयस्कर होता है। अगर आपको ऐसा लगे कि आपकी बात 100 % Truth है और सामने वाला फिजूल की बात कर रहा है और बेवजह उलझ रहा है। वहां चुप रहना ही बेहतर रहता है। आज की कहानी इसी बात पर आधारित है।

 

 

 

 

एक नगर में एक मुर्ख और एक चतुर रहते थे। एक दिन दोनों की बहस हो जाती है। मुर्ख आदमी कहता है आसमान पीला है। और चतुर आदमी कहता है कि नहीं आसमान नीला है।

 

 

 

 

 

इसी बात को लेकर दोनों में बहस हो जाती है। इसपर चतुर आदमी कहता है कि चलो राजा के पास चलते है। अब वही इसका फैसला करेंगे।

 

 

 

 

 

दोनों राजा के पास गए वहां चतुर आदमी ने कहा, “ महाराज यह आदमी बिना वजह के बहस कर रहा है। आप ही इसका फैसला करें, जिसकी गलती हो उसे सजा दें।”

 

 

 

 

 

राजा ने पूछा, “बात क्या है ?”

 

 

 

 

 

इसपर चतुर आदमी ने कहा, “मैं कह रहा हूँ कि आसमान नीला है और यह कह रहा है कि आसमान पीला है। अब आप ही बताइये कि गलती किसकी है?”

 

 

 

 

 

इसपर राजा ने कहा, ” गलती तुम्हारी है। ” राजा की बात सुनकर चतुर आदमी बड़ा ही चकित हुआ। तब राजा ने कहा, ” तुम्हारी गलती यह है कि तुमने मुर्ख आदमी से बहस की। ” चतुर आदमी को अपने गलती का एहसास हो गया।

 

 

 

 

 

Moral Of This Story- बहस अपने बराबर वालों में ही की जानी चाहिए।

 

 

 

लालच Hindi Prerak Story 

 

 

 

 

 

6- मित्रों लालच बहुत ही बहुत बुरी चीज होती है। लालच हमें गुलाम बना देती है और गुलामी लालच से भी बुरी होती है। गुलामी अर्थात पराधीनता। जब कोई किसी के अधीन हो जाता है, तो उसका वजूद ख़त्म हो जाता है। आज की यह कहानी इसी पर आधारित है।

 

 

 

 

 

एक जंगल में कई सारे Monkey रहते थे। वे आजाद थे और खूब धमा चौकड़ी मचाते थे। एक दिन की बात है। एक शिकारी जंगल में आया और उसने एक पारदर्शी बोतल में कुछ चने रखे और उसे एक पेड़ पर लटका दिया।

 

 

 

 

 

कुछ देर बाद वहां बंदरों का झुण्ड आया और बोतल में चने को देखा। बंदर उस चने को लेना चाहते थे। लेकिन बंदरों के सरदार ने कहा, “हमें लालच नहीं करना चाहिए अवश्य ही यह कोई छल है।”यह सुनकर सभी बन्दर वापस चले गए लेकिन एक बंदर के मन में लालच आ गया था।

 

 

 

 

 

 

सभी बंदरों के जाने के बाद वह वापस आया और चने निकालने के लिये बोतल में हाथ डाला। चने लेकर उसने जैसे ही मिट्ठी बांधी उसका हाथ बोतल में फंस गया। अब बन्दर बड़ी मुश्किल में पड़ गया।

 

 

 

 

उसे समझ ही नहीं आ रहा था कि चना निकाले या हाथ।  वह लालच में पड़ गया।  इतने में शिकारी आया और बन्दर को पकड़ लिया।

 

 

 

 

Moral Of This Story – ज्यादा लालच हानिकारक होती है। 

 

 

 

 

 

टूटी हुई खाट

 

 

 

 

7- मित्रों जरुरत के समय हमें जो चीज पहले मिल जाए, वही हमारे लिए Useful है।  कई बार ऐसा हो जाता है जब किसी चीज को Unusable मानकर फेंक देते हैं वही हमारे काम में आ जाती है।

 

 

 

मित्रों हर किसी की Respect करना सीखिए, उनका सम्मान करिये।  आज की कहानी इसे पर आधारित है।  आप इसे जरूर पढ़ें और शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

गणेश एक Company में काम करता था। अपनी Hard Work से पैसा कमाता था, लेकिन उसे रहने के लिए अनुकूल जगह नहीं मिलती थी। इसलिए वह अपने दोस्तों के साथ ही रहता था।

 

 

 

 

 

उसके दोस्तों के पास एक Broken bed थी, जो उसे पसंद नहीं थी। एक दिन Company से आने के बाद गणेश को थकावट का एहसास हुआ और नींद से उसका बुरा हाल था। नींद से बुरा हाल होने के कारण वह उस टूटी खाट पर सो गया और उसे बहुत अच्छी नींद आयी।

 

 

 

 

 

Moral Of This Story – जरुरत के समय मिली चीज ही सबसे फलदायी होती है। 

 

 

 

 

पात्रता Hindi Motivational Story 

 

 

 

 

8– मित्रों कमियां सबके अंदर होती हैं, लेकिन हर कोई उसे छुपाना चाहता है और यहीं हमारी गलती हो जाती है। हम अपनी गलतियों को छुपा लेते हैं या फिर दूसरों पर थोप देते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए।  हमें अपनी गलती स्वीकारनी चाहिए और उसे ठीक करने का प्रयास करना चाहिए।  आज की यह कहानी इसी पर आधारित है। 

 

 

 

 

 

प्रायमरी पाठशाला यशपुर में बच्चों को मनोहर लाल पढ़ा रहे थे। उन्होंने आज School में Parent meeting रखी थी। सभी बच्चों के अभिभावकों के उपस्थित होने के साथ – साथ पिंटू की माता जी भी आई हुई थी।

 

 

 

 

पिंटू उसी विद्यालय का छात्र था। अध्यापक मनोहर लाल ने सभी को बताया कि आप लोगों के बच्चे पढ़ने में बहुत अच्छे है। पिंटू की माता ने मनोहर लाल से कहा, “आप पिंटू के ऊपर विशेष ध्यान दीजिए। हर माँ बाप की इच्छा रहती है कि उनका लड़का पढ़ने में तेज हो।”

 

 

 

 

यह देखकर मनोहर लाल मुस्कुराये, लेकिन कुछ नहीं बोले। सरला के बार – बार आग्रह करने पर मनोहर लाल ने एक उपाय सोचा और उन्होंने पानी लाने वाला दो पात्र सरला देवी को देकर पानी लाने को कहा। एक पात्र छोटा था एक बड़ा। सरला देवी पानी लेकर आ गई।

 

 

 

 

“पानी अपने स्वयं लाया है?” मनोहर लाल ने पूछा

 

 

 

 

सरला देवी ने कहा, ” हाँ मैं स्वयं ही पानी लाई हूँ।”

 

 

 

“एक पात्र में पानी कम क्यूँ है ?” मनोहर लाल ने प्रश्न किया

 

 

 

 

” आप भी बच्चे जैसा बात कर रहे है, मास्टर साहब। छोटे पात्र में पानी कम आना स्वाभाविक है। ” सरला ने मनोहर लाल से कहा।

 

 

 

 

” आपके न चाहते हुए पात्र में पानी कम आया, क्योंकि वह छोटा है और यही आपके प्रश्न का उत्तर है। ” अब बात सरला के समझ में आ गई थी।

 

 

 

 

Moral Of This Story- खुद को प्रयास करना चाहिए दूसरे पर दोषारोपण नहीं करना चाहिए।

 

 

 

 

 

मित्रों यह Motivational Short Stories in Hindi  आपको कैसी लगी कमेंट में अवश्य बताएं और Motivational Short Stories in Hindi की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

1- 13 Short Motivational Stories in Hindi With Moral / 13 हिंदी प्रेरक कहानियां

 

2- Motivational Story in Hindi Success / सफलता की 5 हिंदी कहानियां

 

 

 

Motivational Kahani in Hindi