Hindi Motivational Story in Hindi / सलाह एक बेहतरीन हिंदी कहानी

Hindi Motivational Story in Hindi / सलाह एक बेहतरीन हिंदी कहानी

Hindi Motivational Story मित्रों इस पोस्ट में Hindi Motivational Story With Moral दी गयी हैं।  आपको यह कहानियां जरूर ही पसंद आएँगी।

 

 

 

 

Hindi Motivational Story For Students ( सलाह एक बेहतरीन हिंदी कहानी )

 

 

 

आदमी जब किसी परेशानी में उलझा हो या घिरा हुआ हो तब उसे अन्य लोगो की कही बातों पर गौर करना चाहिए। कभी-कभी दूसरे की कही हुई बात बहुत ही मूल्यवान होती है और मनुष्य उन बातों पर गौर करके उलझन से बाहर निकल सकता है। उन अमूल्य बातों से परेशानी से निकलने का रास्ता मिल जाता है।

 

 

 

 

 

जीवन एक बहुत ही ईमानदार और मेहनत करने वाला आदमी था। वह एक सरकारी कर्मचारी था। उसका छोटा सा परिवार था। जिसमे उसकी औरत और 10 साल का लड़का दीपक था।

 

 

 

 

अचानक से जीवन की तबीयत ख़राब हो गई और काफी इलाज के बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ और जीवन की ज्योति बुझ गई। अब तो उसके परिवार पर भारी संकट आ गया था।

 

 

 

हिंदी प्रेरक कहानी 

 

 

 

सरकारी कर्मचारी होने के नाते ही जीवन की औरत को सरकार की तरफ से कुछ आर्थिक सहायता प्राप्त हुई थी। लेकिन धीरे-धीरे वह भी खत्म होने लगी।

 

 

 

 

दीपक की माँ बोली, “बेटा अब हम लोगो की आर्थिक स्थिति गिरती जा रही है। तुम एक काम करो यह ज्वेलरी की पोटली बाजार में बेच दो जिससे कुछ राहत मिलेगी फिर भगवान कोई रास्ता अवश्य ही निकालेंगे।”

 

 

 

 

 

दीपक छोटा था। उसे समझ नहीं आ रहा था कि इस ज्वेलरी को कहां बेचूं। दीपक की माँ उसके उलझन को समझ गई और बोली, “बेटा यह ज्वेलरी तुम बाजार में दूसरे किनारे पर ज्वेलरी की दुकान पर दे देना। वह अपने दूर के रिश्तेदार भी है। वह इस ज्वेलरी को उचित दाम पर खरीद लेंगे।”

 

 

 

Hindi Motivational Story

 

 

 

दीपक उस ज्वेलरी को लेकर उस दुकान वाले के पास गया जो दूर का रिश्तेदार था। वहां जाकर उसने सारी बात को बता दिया। दुकानदार ने वह ज्वेलरी लेजाकर देखा फिर उसे दीपक को देते हुए बोला, “बेटा अभी मार्केट में मंदी की वजह से तुम्हे इस ज्वेलरी की अच्छी कीमत नहीं मिलेगी। तुम इसे हमारे पास तब ले आना जब मार्केट में तेजी आ जाए। उसके पहले मैं तुम्हारी पढ़ाई का खर्चा उठाऊंगा और तुम स्कूल से आने के बाद कुछ समय दुकान पर व्यतीत करना इससे तुम्हे अच्छे ज्वेलरी के विषय में जानकारी हो जाएगी और थोड़ा हमारा भी काम हो जाएगा।”

 

 

 

 

 

दीपक ज्वेलरी लेकर घर चला गया और अपनी माँ को सारी बातें बताई। उसकी माँ ने ईश्वर का धन्यवाद किया जो इतने बुरे समय में उसकी सहायता करने वाले आदमी के पास पहुंचा दिया था।

 

 

 

 

 

समय बीतता गया अब दीपक नौजवान हो गया था। उसे अब ज्वेलरी के बारे में अच्छी समझ हो गई थी। एक दिन दुकानदार दीपक से बोला, “बेटा इस समय मार्केट में तेजी आ गई है तुम चाहो तो अपनी ज्वेलरी बेच सकते हो।”

 

 

 

 

दूसरे दिन ही दीपक ज्वेलरी लेकर तैयार हुआ लेकिन उसने एक बार उस ज्वेलरी को देखना चाहा। उसने पोटली खोला तो हैरान हो गया क्योंकि वह सारी ज्वेलरी ही नकली थी क्योंकि अब दीपक ने ज्वेलरी की परख करना सीख लिया था।

 

 

 

 

वह अपने रिश्तेदार दुकान वाले के पास जाकर बोला ‘सॉरी अंकल’ ज्वेलरी नकली होने के कारण ही मैं उसे आपके पास नहीं ला सका।

 

 

 

 

दुकानदार बोला, “ज्वेलरी तो उस समय भी नकली थी जब तुम पहली बार लेकर आये थे। लेकिन उस समय तुम्हारे पास ज्वेलरी परखने की क्षमता नहीं थी। इसलिए ही मैंने उसे तुम्हे लौटा दिया था और तुम्हारी सहायता करके इस काबिल बनाया कि तुम स्वयं ही किसी ज्वेलरी का खुद मूल्यांकन कर सको। ईश्वर की कृपा से मैं अपने नेक कार्य में सफल हुआ हूँ।”

 

 

 

 

 

 

दीपक बहुत खुश था। जो अपने उस रिश्तेदार की सहायता से और उनके अच्छे सलाह के कारण ही एक अच्छा ज्वेलर्स बन चुका था।

 

 

 

 

मित्रों यह कहानी Hindi Motivational Story आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Motivational Hindi Story की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

1- Time Motivational Story in Hindi / बेस्ट प्रेरणादायक कहानी हिंदी में

 

2- Motivational Kahaniyan 

 

 

 

 

 

 

 

Motivational Kahani in Hindi