Business Motivational Stories in Hindi / बिजनेसमैन हिंदी मोटिवेशनल कहानी

Business Motivational Stories in Hindi / बिजनेसमैन हिंदी मोटिवेशनल कहानी

Business Motivational Stories in Hindi यह एक  Business  motivation story है।  मित्रों अक्सर हम दूसरों के व्यापार को अच्छा कहते है और सोचते है काश वह व्यापार मैं करता तो कितना अच्छा होता। जबकि हमारे पास जो कुछ होता है हम उससे खुश नहीं होते आज की कहानी इसी पर आधारित है।

 

 

 

 

Business Motivational Stories in Hindi ( बिसिनेसमैन की सफलता की कहानी ) 

 

 

 

 

 

एक बार की बात है। एक लड़का बाग में फटे हाल हालत में एक बेंच पर बैठा भगवान को कोस रहा होता है। तभी उसकी नजर कुछ ही दूर बैठे एक लड़के पर गयी, जो बहुत ही अमीर दिख रहा था। उसने कीमते कपड़े और जूते पहने थे। सोने की चैन पहनी थी और काफी अच्छे घर का रईस लग रहा था।

 

 

 

 

 

 

यह देखकर वह गरीब बच्चा उस अमीर बच्चे से जलन रखने लगता है और भगवान को और भी अधिक कोसने लगता है। वह भगवान से कहता है, “भगवान अगर तुम सच में हो, तो मुझे उसके जैसा बना दो।” यह क्या चमत्कार होता है और अब अमीर बच्चा गरीब बन जाता है और गरीब बच्चा अमीर बन जाता है।

 

 

 

 

 

 

लेकिन चौंकाने वाली बात यह थी कि गरीब बनकर भी वह बच्चा बहुत प्रसन्न होता है और खूब खेलने लगता है। यह देखकर अमीर बच्चा उठने की कोशिस करता है तो उठ ही नहीं पाता है। वह देखता है कि उसके पैरों में चोट लगी हुई है। उसे अपनी गलती का एहसास हो जाता है।

 

 

 

 

 

 

मित्रों कभी दूसरों का  Business  देखकर बुरा मत सोचो।  Competition एक अलग चीज है। परन्तु जलन बहुत गलत चीज है।

 

 

 

भीड़ से अलग बनो 

 

 

 

Business Motivational Stories in Hindi
Business Motivational Stories in Hindi

 

 

 

2- मित्रों खुद को लोगों की भींड़ से अलग बनाओ। अगर आप कुछ अलग कुछ Unique करना चाहते हो, तो सबसे अलग होना ही होगा। अगर आप लोगों की भीड़ की तरह रहोगे तो भीड़ ही बनकर रह जाओगे।

 

 

 

 

 

ध्रुव तारा बनने के लिए तपस्या करनी पड़ती है। आपने देखा होगा तमाम Businessman सिर्फ गली तक ही सिमित रह जाते है। कुछ चंद ही होते है जो आसमान को छूते है। अब सोचो क्या है उनमे ? जो आपमें नहीं है। मैं बताता हूँ अंतर कहां आता है। अंतर है सोच का।

 

 

 

 

 

सोच ही आपको आसमान पर ले जा सकती है, तो वही सोच आपको नीचे भी गिरा सकती है। आपको आसमान की तरह  ही सोच रखनी होगी।

 

 

 

 

बुलंदियों को छूने की सोच रखनी होगी। एक Goal लेकर चलना होगा। नसीब और भाग्य तो बाद में आता है। जो यह सोचते है कि, “जो लिखा होगा मिल ही जायेगा ” दुनिया उन्हें Losers कहती है। क्या आप भी लूजर्स बनना चाहेंगे ?कभी नहीं।

 

 

 

 

 

आपको हार नहीं माननी है रणनीति बनानी है। Strategy ऐसी कि वह Market में तहलका मचा दे। तमाम Telecom Company के रहते हुए भी Jio ने ऐसी Strategy बनाई जो आज वह Hindustan के Market पर राज कर रही है। Jio ने पूरे Market के Rule ही Change कर दिए।

 

 

 

 

 

जहां सभी कंपनियां Calls पर निर्भर थी, वहीं Jio ने Internet Data की रणनीति बनाकर पूरे Market के Rule ही Change कर दिए।

 

 

 

 

 

मित्रों यह मत सोचो कि क्या Business करना चाहते है, बल्कि यह सोचो कि वहां नया क्या करोगे। i tune ने Music Industry को बदल दिया और Netflix और Hotstar ने Television में काफी बदलाव लाया।

 

 

 

 

 

किसी भी Business के पहले उसकी Research जरूर करो और उसमे ढूंढो कि ग्राहक को और क्या सुविधा मिल सकती है . और यही सुविधा आपके व्यापार को Success दिला सकती है।

 

 

 

 

 

आप देखो Online Market और Flipkart जैसी कंपनियां पूरी कर रही है। Taxi की जरूरत Uber जैसी कंपनी पूरी कर रही है। तो आप खुद को ग्राहक की तरह देखो और सोचो कि और क्या सहूलियत इस Business में मिल सकती है . और वही सहूलियत आपको Success दिला सकती है।

 

 

 

अच्छे व्यापारी की परख Inspirational Business Success Stories in Hindi

 

 

Business Motivational Stories in Hindi
Business Motivational Stories in Hindi

 

 

 

 

3- जीतू और मीतू दोनों बचपन से ही गहरे दोस्त थे और पढ़ने में भी दोनों कुशाग्र थे। एक कम्पनी में नौकरी के लिए जीतू और मीतू दोनों ने ही एक साथ प्रार्थना पत्र दिया और कम्पनी के मैनेजर मोहन पटवारी ने दोनों को ही नौकरी पर रख लिया।

 

 

 

 

जीतू और मीतू दोनों बचपन से लेकर अब तक 55 की आयु में कदम रख चुके थे। कम्पनी में भी दोनों को काम करते हुए काफी समय व्यतीत हो चुका था। अब दोनों को ही अपने प्रमोशन की बारी का इंतजार था।

 

 

 

 

एक दिन जीतू और मीतू चाय पीने गए थे। तब जीतू ने मीतू से कहा, “भाई इस बार तो हम लोगो में से किसी एक आदमी का प्रमोशन अवश्य होना चाहिए क्योंकि हम दोनों ही अपने काम को अच्छी तरह से करते है।”

 

 

 

 

मीतू ने जीतू से बोला, “हां भाई तुम बात तो ठीक कहते हो लेकिन लगता है कि इस बार का प्रमोशन हमे ही मिलेगा और तुम अगले साल की तैयारी शुरू कर दो।”

 

 

 

 

जीतू ने मीतू से कहा, “नहीं, इस बार तो हमे ही प्रमोशन मिलना चाहिए और तुम अगले साल की तैयारी में लग जाओ क्योंकि हमारे मैनेजर का नाम मोहन पटवारी है। वह बगैर नाप तौल के किसी को प्रमोशन नहीं देता है। इसलिए यह कम्पनी हमेशा ही फायदे में रहती है।”

 

 

 

 

तब तक चाय का समय समाप्त हो गया था। मोहन पटवारी ने जीतू और मीतू की बातें छुपकर सुन लिया था। समय समाप्त होते ही जीतू और मीतू कम्पनी में अपने-अपने काम पर लग गए थे।

 

 

 

 

दूसरे दिन एक कर्मचारी ने मीतू को प्रमोशन लेटर देकर चला गया। प्रमोशन लेटर पढ़कर मीतू बहुत खुश था। उसने अपने दोस्त जीतू को अपने प्रमोशन की बात कह सुनाई थी।

 

 

 

 

जीतू मीतू का प्रमोशन लेटर देखकर बहुत निराश और क्रोधित हो गया। वह सीधे मैनेजर के पास गया और मैनेजर से कहने लगा, “सर, मैं आज से ही यहां की नौकरी छोड़ रहा हूँ।”

 

 

 

 

मैनेजर ने जीतू से पूछा, “क्या बात है, तुम यहां से नौकरी क्यूं छोड़ना चाहते हो ?”

 

 

 

 

जीतू पहले से ही अंदर से गुस्से में भरा हुआ था। वह मैनेजर से अपने मन की भड़ास निकालते हुए बोला, “मैं और मीतू एक साथ ही इस कम्पनी में नौकरी पर लगे थे। हम दोनों ने अच्छी तरह से इस कम्पनी में मेहनत किया। लेकिन आपने मीतू को ही प्रमोशन दे दिया और हमे क्यूं छोड़ दिया ?”

 

 

 

 

मोहन पटवारी ने जो उस कम्पनी का मैनेजर था। उसने जीतू से कहा, “मैं तुम्हे मीतू से ज्यादा पैसा दूंगा और मीतू को तुम्हारे नीचे काम करने करने के लिए कह दूंगा। लेकिन इसके लिए तुम्हे एक काम करना पड़ेगा।”

 

 

 

 

जीतू ने मैनेजर से कहा, “आप काम बताइए मैं करने के लिए तैयार हूँ।”

 

 

 

 

मैनेजर ने जीतू से कहा, “तुम बाजार जाओ और देखो आम बाजार में है या नहीं।”

 

 

 

 

जीतू बाजार गया और देखा एक जगह पका हुआ आम था बेचने के लिए और एक जगह बेचने के लिए कच्चा आम रखा हुआ था। जीतू बाजार से वापस लौटकर मैनेजर से बताया कि एक जगह पका हुआ आम बेचने के लिए रखा था और एक जगह कच्चा आम बेचने के लिए रखा था।

 

 

 

 

 

मैनेजर ने फिर जीतू से कहा, “तुम पूछकर आओ कि आम कितने में मिल रहा है ?”

 

 

 

 

जीतू फिर बाजार की तरफ दौड़ गया, लौटकर जीतू ने मैनेजर को बताया पका हुआ आम 60 रुपये किलो की दर से मिल रहा है और कच्चा आम 40 रुपये की दर से मिल रहा है।

 

 

 

 

अब मैनेजर ने मीतू को बुलाया और कहा, “तुम बाजार में देखकर आओ आम क्या भाव से मिल रहा है ?”

 

 

 

 

मीतू बाजार में गया और पूरा बाजार घूमकर देखा तो उसे केवल एक जगह ही पका हुआ आम दिखा जो बेचने के लिए रखा हुआ था। पका हुआ आम 60 रुपये किलो की दर से मिल रहा था।

 

 

 

 

मीतू ने आम वाले से पूछा, “भाई हमे तुम्हारे पास जितने आम है वह सब चाहिए।

 

 

 

 

तब आम वाले ने कहा, “मैं आपको 40 रुपये किलो के हिसाब से दे दूंगा अगर सब आम आप लोगे तब।”

 

 

 

 

अब मीतू कच्चे आम वाले के पास जाकर पूछा, “भाई यह कच्चा आम किस दर से बेच रहे हो ?”

 

 

 

तब कच्चे आम वाला दुकानदार मीतू से बोला, “भाई कच्चा आम 40 रुपये किलो की दर से बेच रहा हूँ।”

 

 

 

 

अब मीतू कच्चे आम वाले दुकानदार से बोला, “अगर मैं आपका सब आम खरीद लूं तब किस दर से दोगे ?”

 

 

 

 

कच्चे आम का दुकानदार बोला, “अगर आपको सब कच्चा आम चाहिए तो मैं 30 रुपये किलो के हिसाब से दे दूंगा।”

 

 

 

 

अब मीतू अपने कम्पनी के मैनेजर के पास आकर बताने लगा। सर, पका हुआ आम 60 रुपये प्रति किलो के दर से बिक रहा है। अगर हम उसका सब आम खरीद ले तो हमे प्रति किलो 20 रुपये  फायदा होगा। उसके पास एक कुंटल आम है।

 

 

 

 

इस तरह उसका पूरा आम खरीदकर हम बेच देंगे तो हमे दो हजार रुपये का शुद्ध लाभ हो जाएगा और बाजार में सिर्फ एक ही जगह पका हुआ आम मिल रहा है इसलिए उसकी बिक्री भी बहुत जल्द हो सकेगी।

 

 

 

 

कच्चा आम 40 रुपये प्रति किलो से मिल रहा है। उसका पूरा आम ख़रीदने पर वह दुकानदार हमे 30 रुपये प्रति किलो की दर से पूरा आम दे देगा। उसके पास 50 किलो कच्चा आम है।

 

 

 

 

इस तरह हम कच्चा आम लेकर उसे बाजार में बेच देंगे तो उसमे भी हमे तुरंत 500 रुपये का फायदा हो जाएगा। मीतू और मोहन पटवारी जब बात कर रहे थे तो वही पर जीतू भी खड़ा था।

 

 

 

 

अब मैनेजर ने जीतू की तरफ देखा तो उसका सिर झुका हुआ था जो इस बात की गवाही दे रहा था कि जीतू कार्य कुशलता में मीतू से पीछे है।

 

 

 

 

मैनेजर ने जीतू से कहा, “जिस कार्य को तुम दो बार में पूर्ण कर सके उसे मीतू ने एक बार में ही कर दिखाया और एक ही समय में उसने कई प्रश्नो का उत्तर हल कर दिया है। तुम भी अपना कार्य ठीक से करते हो लेकिन उतना ही जितना तुमसे कहा जाता है। लेकिन मीतू ने अपना कार्य बहुत अच्छे ढंग से किया है। इसलिए वह प्रमोशन का पूरा हकदार है।

 

 

 

 

मित्रों यह Business Motivational Stories in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

 

1- Motivational story in Hindi

 

2-Prerak Prasang in Hindi Language / प्रेरक प्रसंग हिंदी कहानियां

 

 

 

 

Motivational Kahani in Hindi